About MVDA

संक्षिप्त परिचय

मथुरा-वृन्दावन विकास प्राधिकरण, मथुरा का गठन वर्ष 1976 में मथुरा-वृन्दावन शहरों के सुनियोजित विकास हेतु महायोजना स्वीकृत की गई तथा नगर एवं ग्राम्य नियोजन विभाग द्वारा विनियोजित क्षेत्र मथुरा-वृन्दावन महायोजना को शासनादेश सं0 2484/37-3-43/ए0के0वी0/73 दिनांक 09.08.76 द्वारा स्वीकृत किया गया तथा उसी के अन्तर्गत दिनांक 25.03.77 को मथुरा-वृन्दावन विकास प्राधिकरण की स्थापना की गई।

प्राधिकरण की सीमा

स्थापना के समय प्राधिकरण में मथुरा-वृन्दावन नगर पालिका क्षेत्र के अतिरिक्त 67 ग्राम सम्मिलित किये गये थे, जिसमें प्राधिकरण योजनायें बनाकर विकास की ओर अग्रसर रहा । इसके पश्चात् शासनादेश सं0 509/9-आ-5-97-76 डी0ए0/76 दिनांक 8 जनवरी 1997 द्वारा कोसी नगर पालिका क्षेत्र को सम्मिलित किया गया । शासनादेश सं0 4493/9-अ-5-96-76 डी. ए/76 दि0 6-12-97 द्वारा छाता, चैमुहाॅं व नन्दगाॅव नगर क्षेत्र के 49 गाॅंवो और प्राधिकरण क्षेत्र में सुनियोजित विकास हेतु सम्मिलित किये गये। इसके बाद पुनः शासनादेश सं0 2426/9-आ-6-2001-2 (विविध)/2001 लखनऊ दिनांक 31-10-2001 द्वारा नगर क्षेत्र गोवर्धन व राधाकुण्ड क्षेत्र एवं 11 गांव भी प्राधिकरण क्षेत्र में सम्मिलित किये गये तथा पुनः शासनादेश सं0 3984/आठ-6-10-2 गठन/2004 लखनऊ दिनांक 8 नवम्बर 2010 द्वारा 82 ग्राम एवं फरह नगर क्षेत्र भी सम्मलित कर लिये गये। इस प्रकार वर्तमान में प्राधिकरण में 3 नगरपालिका क्षेत्र, 6 नगर क्षेत्र तथा 209 गाॅंव सम्मिलित हैं ।